Of Terror Goof-ups..! 


How did he do, in your opinion? 

Didn’t he make a fool of himself and cut his own life short? 

In any case it is never a good idea to use roller skates when your outfit is not appropriate and you have a suicide bomb belt attached to your waist!
But, terrorists and wannabes are known to have committed such bafoonary world over that adds not only to our joy of snickering but help us recalibrate our perception of their training, common sense and above all the level of threat perception. The list of stupid terrorist action is long and appears to grace all nationalities. Here’s a quick sample of some:-
The Last Kiss

=============

In Afghanistan, would be suicide bombers were in habit of giving their trainers and comrades a last embrace before heading out on their mission – a potential harakiri move if you all are wearing suicide vests. It happened once that entire group of silly comrades went up the smoke as the bombs got accidentally detonated. 
The Call For Jehad That Was Not There

===================================

Though some of the Jehadists are highly motivated, most are average loony, fanatic, show-off kind. In 2007, a group of American Muslims planned to attack Fort Dix in New Jersey. To prepare for assault, they hired local shooting range facility and while practicing screamed anti-American slogans calling for Jehad, filmed themselves, because they wanted to look ‘cool’ in their circles. Turned out, their DVD and screaming incidence was reported to law-enforcing agencies and they were apprehended before their ‘call for Muhammad’ could materialise at all. 
Zarqawi’s Shaky Baptism in Terror 

================================

Abu Musab al-Zarqawi, the founder of Al Qaeda in Iraq had a less than successful start to his career in terror. It happened so that, this bugger sent an operative to bomb a theatre showing adult pornographic film, according to Jordanian intelligence, in 1993. However, the bomber, after planting the bomb below his seat at theatre, got lured by the scenes of movie that was being displayed there and sat down to watch it.

The bomb detonated underneath him, and he eventually bled to his death. 
Terror and Traffic Woes

======================

A group of Birmingham wannabes wanted to bomb Anti-Islamic protest march going on there in early 2000. They waited with explocives-laden car initially at road crossings for the signal to turn green to move to pre-determined spot. Later on, becoming impatient they violated traffic signal. Their vehicle got impounded by traffic police for lack of insurance documents! When, somehow they were able to reach the spot, they realized that march had long crossed that location. 
Another group of terrorists were busted in London, UK, when the car that they intended to use in blowing up of a suburban nightclub, was parked illegally and it was towed away! Fortunately for intelligence sleuths, these men had left their cellphones as well in the car, revealing all their possible accomplices to the security services. 
The Fire That Put Out ‘Bojinka’ Plot

================================

Ramzi Yousef, the terror mastermind behind 1993 World Trade Centre bombing, had planned with his equally infamous uncle Khalid Sheikh Mohammed, in 1994-95, a plot to bomb 12 American passenger jets over the Pacific Ocean. Known as the ‘Bojinka’ plot, this was to be inspiration for later Al Qaeda sponsored 9/11 attack on twin towers. They constructed bombs and even did a ‘trial run’ of sorts, detonating a small bomb on one plane, killing a passenger on board. But, before the main plan could materialize, a fire broke out at their bomb-making lair near Manila accidentally, alerting Philippine Security Officials. Subsequent raids led to materials getting confiscated and fizzling out of the plot. Yousef was eventually arrested in Pakistan and sent to US for trials, while Khalid was eliminated in an airstrike. 
Oh, So Near Misses

==================

On December 22, 2001 Islamic propaganda inspired Richard Reid attempted to blow up a Miami bound flight from Paris. As he tried to ignite a bomb hidden in the soles of his shoe, an alert flight attendant noticed the smell. Passengers and Crew members immediately overpowered that jerk, the flight was diverted to Boston airport to land safely and Reid was handed over to authorities after his moments of media highlight for his bafoonary. 
In 2009, a Yemeni Al Qaeda affiliate Umar Farouk Abdulmutallab also tried to repeat a ‘Richard Reid’ in a Detroit bound flight, by trying to detonate a bomb hidden in his underwear. He too was subdued by passengers and handed over to authorities after setting fire to his clothes and a blanket. 
A Crash Barrier Away From Actual Target 

======================================

A plot in 2007, in UK to blow up Glasgow airport, was undone by the idiocy of the wannabe Jehadists. A Physician and a university research scholar wanted to work for ‘Allah’s cause’ by scheming to get their Jeep Cherokee – loaded with fuel and propane tanks, crashed into Glasgow airport terminal building causing severe losses. They managed to get their vehicle crashed to a barrier – quite far from actual terminal building. It is not known, whether the act was deliberate – they might have thought that barrier would easily give way, as in movies – or, out of confusion. Bomb did go off – but without causing any damage to terminal building, however engulfing the duo in flames – one dying on spot of burns, and the other succumbing later on in hospital. 
Al-Shabab’s Chimp Embarrassment 

================================

A member of the African mercenary group, Al Shabab, is known to have handed over his assault rifle to a pet Chimp in jungle, during moments of hyper-excitement in a celebratory dance. It is not known whether safety-latch got accidentally undone or, the Chimp had better IQ, a volley of fire led to the death of a couple of operatives from Chimp’s rifle. Rifle could be retrieved with lots of difficulty subsequently after only getting the Chimp killed. 
Of Fake Bombs Supplied 

======================

Terrorists in US have time and again shown their ineptitude and woefull lack of awareness when they have been supplied with fake bombs by FBI informants and agents. The bomb refuses to go off at required moment or fizzles out leading to arrest of these wannabes red-handed.

 
False Islamic Piety And Lust

==========================

Though some of the terror operatives may try to live exemplary lives, hypocrisy is common in the ranks and files. Sex is a common weakness and Pornographic files are routinely found on the computers of arrested or killed terrorists – including computers found in the Bin Laden compound! 
Many terrorists have been known to be eliminated after honeytrping them. 
Neither animals are safe in their compounds. A sniper rifle thermal imagery captured two Talibani fighters satisfying themselves with a donkey once. Needless to say, two shots from the rifle led to their annihilation and the rescue of poor animal. 
A Saudi operative is on record of having died of testicular haemorrhage and agonising pain, after having received a kick of she-camel, when he tried to ride it from behind, following Muhammad’s commandments in littoral sense. 

This happens when you pursue the bogus agenda of a pervert. 
Should We Laugh At These Fools? 

==============================

Why not! 

Laugh your heart out at these stories of failed attempts, if you want to. 

These incidents only point out to lack of training and professionalism in these wannabes, besides personal weaknesses which can be targetted by counter-terrorism authorities for the good of society. Laughing at failed attempts may seem insensitive at best, or a form of hubris at worst, if it is followed by a successful attack later on. Terrorists do many stupid things, it must be kept in mind, that need to be recognized and exploited. 

इक और कहानी

वकील – माई लार्ड, कानून की किताब के पेज नंबर पंद्रह के मुताबिक मेरे मुवक्किल को बा-इज्जत बरी किया जाए।
:
जज – किताब पेश की जाए।
:
किताब पेश की गई, जज ने पेज नंबर पंद्रह खोला तो उसमें हजार-हजार के पांच नोट थें।
:
जज मुस्कुराते हुए – बहुत खूब ..,  ऐसे दो सबूत और पेश करें..!
😉😜😆

सुनो कहानी

एक बार एक बादशाह ने खुशी में सब कैदी रिहा कर दिये।

उन कैदियों में बादशाह ने एक कैदी को देखा जो इन्तेहाई बुजुर्ग था।
बादशाह : तुम कब से कैद हो…..????
बुजुर्ग : आप के अब्बा के दौर से।
यह सुनकर बादशाह की आंखों में आंसू आ गये और कहा..
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
इसको दोबारा कैद करो ये अब्बा की निशानी है।
😉😜😆

मॉरल ऑफ द स्टोरी:
चरिया.., ज्यादा सेंटी होके मॉरल-वॉरल मांगने का नई रे.., इतने पैसे में इतना-इच मिलता..! 😉

Don’t get hanged for a Comma…!

That freedom fighter was about to be hanged inside jail. The hangman was about to remove the thin plank of wood that was the difference between life and death for the convict. The convict was Indian, hangman was Indian but the order to hang was British government’s… yeah, this story pertains to the Indian freedom struggle era. With heavy heart the hangman went up to the lever that would have removed that plank of wood. Suddenly there was mild commotion from the entrance side.

“Wait, an important message is to be received through wire … Don’t hang him till we receive it.”

It was the British jailor. Hangman’s hands froze where they were. Everybody turned towards the jailor with an expectation… a hope that the convict might get freed… he might not get hanged at all! A moment later, an orderly came running with the wire just received. But, what was that…?! It contained just three words… “HANG NOT SPARE” Communication facility was not, what it is these days and after much deliberation jailor decided to go ahead with hanging as the meaning that he had deciphered from wire was “HANG, NOT SPARE” … off course he came to know about his folly afterwards! What to do… a freedom fighter that would have been set free lost his life just because of a ‘COMMA’!

The second story is from late Mughal period. Badshah Salamat had noticed that his Naib Wazir (Deputy Minister) was absent from his court. He asked his spies to find out the whereabouts of said Wazir. By evening the reply came. It was in Persian that used to be the script of day-to-day work those days. It said,

“او مرد امروز”

(Who Aaj Mar Gaya => He died today).” Badshah Salamat was shocked to hear that but a bigger shock was awaiting him when he came to know that the spy forgot to put “Pesh” (the accented hyphen that puts in the sound “E” at “Mar” and he actually meant to say (Woh Aajmer Gaya => He went to Aajmer).

So, you see, what a misplaced stoppage (Punctuation) can do to the meaning!

In late 17th century, people started placing a common “Shiro-Rekha” (शिरो-रेखा) on all words in a sentence in Hindi. Now, try and make meaning out of following sentence from a letter written in that period:-

“कागदहीकेकारणजानगवायो।

“KAGADHIKEKAARANJAANGAWAAYO”

What do you decipher? This question was put to a “Dhobi” (A Washer man) and he deciphered the meaning as:-

“का गदही के कारण जान गवायो।”

That is, somebody (Probably a washer man) lost his Donkey (गदही) and died due to loss to his income.

Not satisfied, people wanted to consult a “Munshi” (A Clerk, or a person with literary bent of mind) as they were approaching his house, his Milkman happened to come across. Curious, he too wanted to see the letter and after seeing he couldn’t but ridicule them for not understanding a line that was very simple and obvious. It meant, according to him:-

काग दही के कारण जान गवायो।

A crow lost life for curd… (After being hit by the stone thrown by milk-woman to scare him away from the pitcher full of curd, probably …!)

People were aghast at the explanation. Suddenly, somebody noticed the Munshi coming their way. They just ran up to him with the problem at hand. The bespectacled Munshi, adjusting his specs, announced to the crowd, “Meaning is quite obvious… Someone lost very important paper and lost his life because of the urgency associated! You see…

कागद ही के कारण जान गवायो।

Till date it is not clear why someone lost his life or, what the meaning of that sentence is…! Everybody explains it according to his wisdom, his profession, his familiarity with one or other situation. So, you too don’t lose a life (Your or someone else’s) just for a silly punctuation… A Comma!

Now something deeply philosophical: –

“A Punctuation or A Stoppage, as in literature, is very important in life too, for it gives you to time to stop for a while, look around, look back, rejuvenate yourself… and then go ahead.” Think about this.

I know what you are thinking…!

“So much for your philosophies… Huuh!”

Ok, forget it!

2010 in review: My Blog at WordPress

The stats helper monkeys at WordPress.com mulled over how this blog did in 2010, and here’s a high level summary of its overall blog health:

Healthy blog!

The Blog-Health-o-Meter™ reads This blog is on fire!.

Crunchy numbers

Featured image

A Boeing 747-400 passenger jet can hold 416 passengers. This blog was viewed about 7,500 times in 2010. That’s about 18 full 747s.

 

In 2010, there were 21 new posts, growing the total archive of this blog to 44 posts. There were 26 pictures uploaded, taking up a total of 3mb. That’s about 2 pictures per month.

The busiest day of the year was May 6th with 84 views. The most popular post that day was … THE DYING TERRORIST (POEM).

Where did they come from?

The top referring sites in 2010 were facebook.com, google.co.in, in.yfittopostblog.com, orkut.co.in, and bigextracash.com.

Some visitors came searching, mostly for september 11, spontaneous human combustion, hindi skit script, hindi skit comedy script, and 9 11 pictures.

Attractions in 2010

These are the posts and pages that got the most views in 2010.

1

… THE DYING TERRORIST (POEM) November 2009
2 comments

2

SCHOOL INSPECTION (HINDI SKIT-FOR SEWAK DAY) September 2009
12 comments and 1 Like on WordPress.com,

3

SPONTANEOUS HUMAN COMBUSTION October 2009
6 comments

4

… HERMAN PERRY: THE AMERICAN SOLDIER WHO MARRIED A NAGA PRINCESS ! August 2009
4 comments

5

Myths And Legends Of Nagaland October 2009
15 comments

मुसद्दी लाल की गवाही (SKIT FOR SEWAK DAY 2010)

Mussaddi lal ki gawah

courtroom i

CAST:

  1. जज
  2. वकील
  3. गवाह

SCENE 1: COURTROOM: INTERNAL: DAY

सुत्रधार:

आप में से कई लोग कचहरी जातें हैं .. अपने केस मुकदमे के चक्कर में! कुछ लोग जज हैं .. कुछ वकील हैं, वे भी कचहरी जातें हैं .. पर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो ना जज हैं ना वकील फिर भी उनका कचहरी में आना जाना लगा रहता है। उन्ही में से एक हैं हमारे मुसद्दी लाल .. एक प्रोफेशनल गवाह! काफी नामी गवाह हैं .. उनकी गवाही सुनने के लिये काफी भीड़ भी जम जाती है। काफ़ी किस्से मशहूर हैं उनके हमारे यहां .. अब आपको उनके किस-किस किस्सों के बारे में बतायें .. आप खुद ही देख लिजिये ..

इस एकांकी में गवाह मुसद्दी लाल का रोल …………………… निभा रहें हैं, वकील के रोल में हैं ……………….., और मेरा क्या रोल है, ये आप खुद ही देख लिजिये!

SCENE 2: COURTROOM: INTERNAL: DAY

सुत्रधार ही जज की कुर्सी पर बैठा है। आवाज आती है – मुसद्दी लाल हाजिर हो .. ! मुसद्दी लाल हाथ में कटहरा उठाये अदालत में दाखिल होता है।

मुसद्दी लाल:

बहुत गवाही देने जाना पड़ता है ना, इसलिये कटहरा अपने साथ ही लेकर चलता हुँ।

(फिर जज की ओर देख कर)

नमस्कार जज साब .. अएं, आप नये आये हैं का जज साब, पाठक जी थें ना आप से पहले? अच्छा घूंस लेने के कारण डिस्मिस विस्मिस हो गये होंगे, पाठक जी .. कितना मना किया था, साहब को!

वकील:

ठीक है .. ठीक है .., पहले आप गीता पर हाथ रख कर ..

मुसद्दी लाल:

(बीच में टोकता हुआ)

साब, ये गीता कहां? ये तो BRO का File है!

वकील:

ठीक है .. ठीक है, आप इसी पर हाथ रख कर कसम खाइये कि जो भी कहेंगे सच कहेंगे और सच के सिवा कुछ भी नही कहेंगे।

मुसद्दी लाल:

(जज की तरफ मुड़कर)

लो, सुनो ..! ये ऐसे ही बात हो गयी .. हमरे गांव मे एक रहा कलुवा .. अ एक ठो रही उसकी भैंस .. अ उसकी भैंस को हुआ एगो भैंसा ..

वकील:

(बीच में)

अब .., कलुवा और उसकी भैंस का इस शपथ से क्या संबंध?

मुसद्दी लाल:

जो सुना रहे है वो तो सुनो ना ..!

(जज की तरफ मुड़कर)

जज साब,जब भैंस को हुआ भैंसा, तो हमको मिल गया बाबू .. हम बोला, ए बाबू, कलुवा के भैंस को हुआ है एगो भैंसा .. तो जानते हैं का बोला?

जज प्रश्नवाचक अंदाज मे देखता है

मुसद्दी लाल:

बोला .. का हो, कलुवा का भैंस पेट से था का? अब आप बताओ, बिना पेट से हुये भी का भैंसा हो सकता है? आप पढ़े लिखे लोग भी ना .. जाने का बात करत हो! अरे ऐसे ही, जब हम सच बोलेंगे ही तो सच के सिवा और का बोलेंगे .. मतबल है कोइ इस बात का .. बताओ तो जरा?

वकील:

कानून है .., शपथ लो!

मुसद्दी लाल:

हां तो ठीक है, हम कोई कानून के बाहर थोड़े ही हैं .. लाइये हम शपथ लेते है।

(जज की ओर देख कर शपथ लेता है)

मैं जज साहब और ईश्वर को हाजिर-नाजिर जान कर शपथ लेता हुँ कि जो भी कहुंगा सच कहुंगा और, सच के सिवा कुछ भी नही कहुंगा।

(फिर वकील की ओर मुड़कर)

वैसे हमरी ये बात आप भी जान लो, सात पुस्तों में से भी आजतक किसी ने झूठ नही बोला है .. सबसे बड़ा सच तो यही है!

वकील:

अच्छा ठीक है ठीक है, ये बताओ, नाम क्या है?

मुसद्दी लाल:

किसका?

वकील:

अब यहां क्या आपको गांव के लोगों के नाम पूछने के लिये बुलाया है ..अपना नाम बताइये!

मुसद्दी लाल:

मुझे लगा के आप जज साब का नाम पूछ रहें हैं के ..(दर्शकों की ओर इशारा करके) इनका नाम पूछ रहें हैं के, उनका नाम पूछ रहें हैं!

वकील:

आप अपना नाम बताइये।

मुसद्दी लाल:

(जज की ओर इशारा करता हुआ)

जज साहब, ये पाठक जी कहां गये आपको मालूम है का? उनके एक रिश्तेदार के केस में भी हम ही गवाह हैं।

जज:

आप से जो सवाल किया जा रहा है सिर्फ उसका जबाव दें- अपना नाम बतायें।

मुसद्दी लाल:

हुजूर माई बाप, नाम का तो ऐसा है .. मां बाप ने तो रखा था .. छोड़ें साहब, गांव में तो जो मिल जाता है हमको कहता है – माधोलाल, तो कोई कहता है माधो भइया, तो कोई माधो मियां .. माधो भाईजान .. कोई-कोई तो ..

वकील:

ओह्हो, आप एक नाम बताइये।

मुसद्दी लाल:

नाम लिखना है तो लिख लिजिये .. मुसद्दी लाल .. ला लड़की का!

जज:

(टेबल पर हथौड़ा बजाते हुए)

आर्डर-आर्डर, क्या आप उनको (वकील की ओर इशारा करके)वर्णमाला सिखायेंगे?

मुसद्दी लाल:

नहीं-नहीं जज साब, क्या है ना कई बार गलती हो जाती है सुनने में ना .. फिर वकील साब तो अपने पुराने आदमी हैं ..।

वकील:

बस-बस ठीक है, बाप का नाम बताइये।

मुसद्दी लाल:

साब, हमारे यहां बाप का नाम जुबान पर नही लातें हैं।

वकील:

क्युं? क्या शर्म आती है?

मुसद्दी लाल:

(भड़क कर)

शरम काहे को आयेगी? आप को आती है क्या बाप का नाम लेने में? लिखिये .. हरि लाल पहलवान .. हरि लाल पहलवान .. हा हाथी वाला!

वकील:

अपनी उम्र बताइये।

मुसद्दी लाल:

का ..? काहे बताबें? कोई शादि-ब्याह करवाना है का?

वकील:

ओह, आप अपनी उम्र बताइये।

मुसद्दी लाल:

हुजूर, मैं जैसा हुं .. बूढ़ा हुं .. जवान हुं, आप के सामने हुं .., बस! आपको जैसा लगे, लिख लिजिये। इसी में अदालत का टाईम निकल जायेगा!

जज:

(वकील से)

आप ये सब क्यों पूछना चाहतें है?

वकील:

सर, मैं तो बस इनकी आईडेन्टिटी इस्टैब्लिश करना चाह रहा हुँ।

जज:

ठीक है, अब मेन मुद्दे पर आइये।

वकील:

ठीक है सर, बस एक और सवाल ..

(मुसद्दी लाल से)

क्या आप जेल जा चुके हैं?

मुसद्दी लाल:

जेल ..? अरे, जेल जाना कोई खराब बात है का? महात्मा गांधी भी तो गये थें जेल .. नमक बनाने के लिये!

वकील:

और .. आप किस लिये गये थे जेल?

मुसद्दी लाल:

दारू बनाने के लिये ..!

वकील:

दारू ..? क्या आपको मालूम नहीं, नागालैंड में दारू बनाना गैरकानूनी है?

मुसद्दी लाल:

उस टाईम में तो नमक बनाना भी उतना ही गैरकानूनी था .. गांधी बाबा से क्यूं नही पूछते है .. बड़ा आदमी थें, इसलिये क्या?

जज:

(वकील से)

आप क्यों ये सवाल पूछ रहें हैं?

वकील:

साहब, मैं अदालत के सामने ये तथ्य लाना चाहता हुं कि ये आदमी झूठी गवाही देने के आरोप में भी जेल जा चुका है।

मुसद्दी लाल:

अरे, ऐसी छोटी-मोटी बातें मुझे याद नही।

वकील:

छोटी-मोटी बातें?

मुसद्दी लाल:

हां, और नही तो क्या?

जज:

(मुसद्दी लाल से)

क्या आप अपनी सफायी में कुछ कहना चाहतें है?

मुसद्दी लाल:

सफायी के बारे में ..?

जज:

हां, सफायी के बारे में ..!

मुसद्दी लाल:

जज साब, मैं बहुत सफायीपसंद इंसान हुं .. दिन में दो बार नहाता हुं .. सफायी के लिये .. लक्स साबुन से, कभी लाइफबॉय से, कभी पीयर्स से, कभी हमाम से, तो कभी ..

जज:

मैने आपसे इस मसले पर सफायी के बारे मे पुछा था!

मुसद्दी लाल:

साहब, मैं तो हमेशा साफ-सुथरा रहता हुं .. आप मुझे सुंघ कर देखिये ना .. कोई बदबू नहीं ..!

जज:

(वकील से)

आप गवाह से इस मामले के संबंध में सवाल पूछिये।

वकील:

ठीक है, जज साहब

(मुसद्दी लाल से)

आप लालू को जानते हैं?

मुसद्दी लाल:

कौन .. यादव? चीफ मिनिस्टर रह चुके हैं, बिहार के ..!

वकील:

मैं लालूराम की बात कर रहा हुं .. आप के गांव का लालूराम .. आपका पड़ोसी!

मुसद्दी लाल:

हां साहब, हम तो खूब जानत रहें .. उ लालूराम के .. अरे, लंगोटिया दोस्ती जो रही!

वकील:

अच्छा, तो ये बताइये, लालू राम की उम्र क्या होगी?

मुसद्दी लाल:

अरे साहब, जब बताया की हमरे दोस्त रहें है तो ये उमर-बीम्मर क्या है .. कोई एतना सोंच के दोस्ती थोड़े करता है?

वकील:

आप सिर्फ इतना बतायें कि आप लालूराम को जानते है या नहीं।

मुसद्दी लाल:

बिल्कुल जानते है साहब, जैसे कंपुटर मे करंट होता है .. जैसे कलम में स्याही होता है .. जैसे समोसे मे आलू होता है, वैसे ही हमरे दिल मे वो है ..

वकील:

(बीच में)

फिर आप उनकी उम्र क्यों नही बता रहे है ..? बताइये।

मुसद्दी लाल:

उनकी उम्र .. लिखिये .. यही कोई ३० ..

वकील:

३० साल ..?

मुसद्दी लाल:

३० से ६० साल के बीच है ..!

वकील:

ये कौन सी उम्र है .. ३० से ६० साल के बीच?

मुसद्दी लाल:

अब हम कोई उनके छट्ठी मे भोज तो खाय नही रहें .. जो एकदम सही-सही ही बता पायें! जो बता रहें है सो लिख लो, ना तो खुदई पूछ लेना!

वकील:

अच्छा, आप ये बताइये उनका कद कैसा है .. लंबे है या नाटे?

मुसद्दी लाल:

है तो लंबे ..

वकील:

अच्छा, लंबे है?!

मुसद्दी लाल:

हां, लंबे है .. लेकिन ..

वकील:

लेकिन क्या?

मुसद्दी लाल:

लेकिन ये कि उनको बहुत जोर का दमा है .. तो थोड़ा झुक कर चलते है .. (झुक कर दिखाता है) इसलिये लगते नाटे ही है .. !

वकील:

(हक्का-वक्का होकर)

है ..? अच्छा उनका रंग कैसा है .. गोरा या काला?

मुसद्दी लाल:

साहब .., हैं तो गोरे ही ..

वकील:

अच्छा, गोरे है ..?

मुसद्दी लाल:

हां, गोरे है .., लेकिन ..

वकील:

अब लेकिन क्या?

मुसद्दी लाल:

साहब हमने सच बोलने की कसम खायी है .. तो, कहेंगे तो सच ही! लालूराम को, बताया ना, बड़े जोर का दमा है .. सो चेहरा कुम्हला गया है .. देख कर कोई बता नही सकता के गोरे है या काले!

वकील:

लालूराम के बाल कैसे हैं .. सफेद या ..

मुसद्दी लाल:

सफेद है, साब ..

वकील:

अच्छा, सफेद है ..!

मुसद्दी लाल:

हां, हैं तो सफेद ही .., लेकिन ..

वकील:

अब, लेकिन क्या?

मुसद्दी लाल:

साब, आजकल बाल कौन नही काले करता है .. सो वो भी कभी-कभी अपने बाल काले कर लेता है।

जज:

मुसद्दी लाल गवाह, आपको अदालत निर्देश देती है कि उल-जुलूल बातों से अदालत और अपना वक्त जाया न करें।

मुसद्दी लाल:

हुजुर, उल-जुलूल कहां ..? मैं तो सच बता रहा हुं और सच के सिवा कुछ भी नही .. कसम भगवान की!

वकील:

अच्छा, आप मुन्नू मियां को जानते हैं?

मुसद्दी लाल:

हां साहब, जैसे लालूराम को जानते है, वैसे ही ..

वकील:

थोड़ा विस्तार से बताये, मुन्नू मियां को कैसे जानते है?

मुसद्दी लाल:

बड़ा लालची है साहब, जब देखो तब हमरे बैठक में ही पड़ा रहता है .. पान-तमाखू के लिये! मुफतखोरी की आदत है ना साहब .. मुफत मे तो गोबर भी खिलाओ तो खा ले!

वकील:

अच्छा, मुन्नू मियां का कद कैसा है?

मुसद्दी लाल:

कद माने .. लंबाई?

वकील:

हां .. हां।

मुसद्दी लाल:

मुन्नू मियां का कद होगा .. यही कोई (हथेली नीचे की तरफ करके हाथ उपर-नीचे करता है)

वकील:

कितना ..?

मुसद्दी लाल:

इतना ..

(कंधे के बराबर हाथ रोक कर)

अ .. हां।

वकील:

(जज की ओर मुड़कर)

नोट किया जाये योर ऑनर, ये आदमी अदालत मे झूठ बोल रहा है .. जिस मुन्नू मियां का कद ये इतना बता रहा है, वो आदमी नहीं, मुर्गा है ..!

मुसद्दी लाल:

(हड़बड़ाकर, जज से )

अयं .., मुर्गा है? अभी रुकिये जज साहब .. झूठ कहां .. अभी दुसरा हाथ लगाया कहां है?

(दुसरा हाथ पहले हाथ के करीब ६ इंच नीचे लगा कर)

इतना .. मैं तो इतना ही कह रहा हुं .. ये वकील साहब सुनते ही नही हैं।

वकील:

आप सच बतायें वारदात के वक्त आप वहां थे या नही?

मुसद्दी लाल:

लो सुनो, हम काहे नही होंगे .. अरे हमरा तो काम ही है वारदात के वक्त खड़े होने का .. (फिर अपनी बात पर ही चौंक कर) मतबल .. किसी से भी पूछ लो .. हम तो वहीं थे। अब कोई घड़ी-घोड़ा तो है नहीं हम गरीबों के पास के आपको टाईम भी बता दें कि हां इतने बजे हम वहां खड़े थें और इतने बजे की वारदात है!

वकील:

ठीक है, वारदात के बारे में जो भी मालूम है वो अदालत को बताये।

मुसद्दी लाल:

(जज की ओर मुड़कर)

साहब हमरे गांव का सूरज डुबने ही वाला था ..।

वकील:

अब आपके गांव में क्या कोई निराला सूरज उगता है .. ये बताइये दिन था या रात?

मुसद्दी लाल:

(जज से)

जज साब, ये बताइये, हमरे गांव मे अगर सूरज डुब गया तो का सारे संसार मे सूरज डूब जाता है? कल को बगल गांव वाला कोई आकर अगर बता दे कि वहां सूरज नही डूबा था तो इ वकील साहब तो हमको झूठ बोलने के आरोप में जेल भिजवा देंगे ना .. ?

(फिर वकील की तरफ मुड़कर)

का वकील साहब .. है ना जायज बात? आप कल ये भी पूछ सकते है .. सूरज तुमरे ही गांव में क्यों डूबा? अरे, वो कोई हमरे मर्जी से चढ़ता गिरता है ..? वो तो होता ही रहता है .. कभी चढ़ता है कभी गिरता है! इसिलिये तो कहा है .. सुनिये:-

पर्वत से गिर कर भी संभल सकता है कोई,

नजर से जो गिर जाये उसको संभालेगा कौन?

मुसद्दी लाल अपनी बात पर खुद ही खूश होता हुआ जज की ओर देखता है।

जज:

आप शायरी छोड़िये और वकील साहब की बात का जबाव दिजिये।

मुसद्दी लाल:

(निराश होकर)

साहब, बुरा ना माने तो एक बात बोलूं .. पाठक जी ज्यादा अच्छे थें .. शेरो-शायरी में भी दखल रखतें थें।

वकील:

ये जो आरोप है लालूराम पर कि उसने अंतिम नागा का पिटायी किया है, इसके बारे में आप का क्या कहना है?

मुसद्दी लाल:

हम तो लड़ाई-झगड़े से कोसो दूर रहतें है साहब, हम क्या बता सकते है!

वकील:

तो आप मानते है, वारदात के वक्त वहां आप नही थें?

मुसद्दी लाल:

नही, हम तो वहीं थे!

(वकील की ओर देख कर सर हिला-हिला कर बोलता हुआ)

शपथ खाया है साहब, झूठ नहीं ना बोलेंगे! हमरे आगे भी दु लोग था और पीछे भी दु लोग .. बताइये कितना लोग था .. अब ऐसे में जो दिखा वोही तो बताएंगे ना आपको!

वकील:

ये जो चीखने की आवाज आयी थी, वो किस दिशा से आयी थी?

मुसद्दी लाल:

दिशा .. ? गरीबों की भी कोई दिशा होती है साहब? आप ही बताइये कि हमरे गांव में रात के अंधेरे में अगर कोई कुत्ता भूंकता है ..

(कुत्ते की आवाज निकालता है)

भूं ऽ भूं .., तो बताइये, वो आवाज किस दिशा से आती है?

जज अब कुर्सी से उठकर सुत्रधार की भूमिका मे (पीछे वकील और गवाह धीमी आवाज में जिरह करते रहते है)

जज:

बहूत सवाल किये वकील ने और हमारे रणबांकुरे मुसद्दी लाल भी डटे रहे। उसने वो जबाव दिये .. वो जबाव दिये कि मामला सुलझने की बजाय और उलझ गया, और आगे वही हुआ जो होता आया है …।

SCENE 3: COURTLROOM: INTERNAL: DAY

जज:

(टेबल पर हथौड़ा मारते हुए)

ऑर्डर-ऑर्डर, गवाह की गवाही और वकील की जिरह सुनकर अदालत अभी किसी भी नतीजे तक नही पहुंच पायी है इसलिये इस मुकद्दमे की कार्रवायी अगले सेवक डे तक के लिये मुल्तवी की जाती है।

मुसद्दी लाल:

(वकील की तरफ देख कर)

लो हो गया मुल्तवी, अरे हमको तो अगला डेट ही चाहिये था .. आप काहे इतना अनाप-शनाप सवाल पूछे जा रहे थे।

(फिर पॉकेट मे हाथ डालते हुये)

ए हुजूर आपके पास पाँच सौ का छुट्टा है का?

वकील:

किस लिये?

मुसद्दी लाल:

अरे लालूराम को वापस करना है .. सौ रुपया! हमरा फीस चारे सौ फी गवाही है ना .., जरुरत पड़े तो कभी आप भी याद किजियेगा साहब .. इस मुसद्दीलाल गवाह को ..!

पर्दा गिरता है।