The Paradox of Our Times..

image

The paradox of our time in history is that..

we have taller buildings, but shorter tempers;
wider free-ways, but narrower viewpoints.

We spend more, but have less;
we buy more, but enjoy less.
We have bigger houses and smaller families;
more conveniences, but less time.

We have more degrees, but less sense;
more knowledge, but less judgement;
more experts, yet more problems;
more medicine, but less wellness.

We drink too much,
smoke too much,
spend too recklessly,
laugh too little,
drive too fast,
get angry too quickly,
stay up too late,
get up too tired,
read too little,
watch TV too much,
and pray too seldom.

We have multiplied our possessions, but reduced our values.
We talk too much, love too seldom, and hate too often.
We’ve learned how to make a living, but not a life.
If you added years to life, but not life to years.

We’ve been all the way to the moon and back, but have trouble crossing the street to meet and the new neighbour.
We’ve conquered outer-space, but not inner-space.
We’ve done larger things, but not better things…

We’ve conquered the atom, but not our prejudices.
We write more, but learn less.

(~ By BOB MOOREHEAD)

Advertisements

.. To supporters of clemency to terrorists

Watched yesterday’s Newshour show on a certain ‘Now’ channel – not because I’ve suddenly realised the intellectual worth of Your-Knob’s show (I still consider him the biggest noise pollutant on prime time TV)!
It was surprising to see a certain ‘Gandhi’ give him the taste of his own medicine and hold the ‘intelligent’ debate to ransom!

I’ve read a highly-biased book written by this gentleman (i.e., Let’s Kill Gandhi) and, am aware of the views held by him so, it was a no surprise to see this ‘Later Day Saint’ pleading for clemency to a terrorist! What this gentleman was able to dish out throughout the debate was beyond logic and was harbouring in the domain of rhetoric.., dear readers, pure rhetoric!

He was able to prove the fact one can’t become civilized by just having a famous surname or lineage.., one can only fake rationalism through one’s inherited burden of ‘Gandhigiri’!

Tell you guys, most of these ‘Gandhis’ deserve to be dumped in Indian Ocean..!

🌿🌿पत्नियों के प्रिय जुमले 🌿🌿

🌿🌿पत्नियों के प्रिय जुमले 🌿🌿
———————————————
यदि आप इनसे वंचित हैं तो यकीन मानिए कि आप बहुत सौभाग्यशाली है।
———————————————

🎋शादी के तीन महीने बाद 🎋

क्या कर रहे हैं ? कोई आ जाएगा, थोड़ी बहुत शर्म-वर्म है कि नहीं ?

🎋शादी के चार महीने बाद 🎋

सोने दो, तुम्हारी माँ चाहती है कि सुबह छः बजे मैं मन्दिर में उनके साथ 🔔 घंटियां बजाऊँ।

🎋छह महीने बाद 🎋

मेरे मैके नहीं तो, अपनी ससुराल ही ले चलो।

🎋दस महीने बाद 🎋

एेसी हालत में शर्मा जी अपनी पत्नी का कितना ध्यान रखते हैं, और एक तुम हो की?

🎋बारह महीने बाद 🎋

अपनी माँ की तरह बातें मत करो, लडका हो या लडकी क्या फर्क पड़ता है?

🎋पन्द्रह महीने बाद 🎋

जब तुम दुबले-पतले हो तो गुडिया आठ पॉऊण्ड की कैसे होती, हर बात में मुझे ही दोष देते हो।

🎋अट्ठारह महीने बाद 🎋

हाँ-हाँ सब गुडिया से बहुत प्यार करते हैं, लेकिन चेन, अंगुठी तो मेरे मैके वालों ने ही दी, देख लिया सबका प्यार।

🎋दौ साल बाद 🎋

बिट्टो को बुखार है, और तुम आफिस की फाइलों में सर खफा रहे हो? तुममें अक्ल नाम की कोई चीज है कि नहीं?  

🎋तीन साल बाद 🎋

कॉन्वेंट में ही डालेंगे, नहीं तो अपने बाप की तरह रह जाएगी, और तुम तो इस मामले में नहीं बोलो तो ही अच्छा है।

🎋चार साल बाद 🎋

अब तुम्हारा भी एक परिवार है, कब तक माँ बाबूजी के पल्लू से चिपके रहोगे? बड़े भैया को देखो, कितनी चतुराई से अलग हो गये।

🎋 पांच साल बाद 🎋

नौकरी बदलो, ओवर टाईम करो, डाका डालो, अब हमारे खरचे बढ़ गये हैं, पप्पू के खिलौने तक नहीं खरीद पाती, जबकि पप्पू की डिलिवरी तक मेरे मैके मे हुई है, यह कोई रिवाज है भला?

🎋छह साल बाद 🎋

ये मकान ठीक नहीं है, एक रूम कम पडता है।

🎋सात साल बाद 🎋

बच्चों के चक्कर में मुझे तो बिल्कुल भूल ही गये, पांच साल से एक अंगुठी तक नहीं दिलवाई।

🎋आठ साल बाद 🎋

नासिक वाले इंजिनियर ने कितने कितने चक्कर काटे थे, पर मुझे तो तुम्हारे साथ ही बर्बाद होना था।

🎋 नौ साल बाद 🎋

कोई अहसान नहीं करते हो, जो कमा कर खिलाते हो, सभी खिलाते हैं।

🎋दस साल बाद 🎋

बच्चों के नम्बर नहीं आये तो मैं क्या करूं ? अकेली दोनों को पढाती हूँ। तुम्हारे पास न तो टाइम है, ना इन्हे पढाने की अकल।

🎋ग्यारह साल बाद 🎋

खर्चा कम नहीं होगा, कमाई बढ़ाने की चिन्ता करो, और बाबूजी के पी.एफ. का क्या हुआ? मकान के वक्त तो कुछ दिया नहीं, अब जरा सी हेल्प नहीं कर सकते, या राम, भरत को ही देंगे, राजगद्दी?

🎋बारह साल बाद 🎋

मेरे पापा ने मेरी शादी की जिम्मेदारी ली थी, तुम्हारी बहन, भतीजियों की नहीं, शादियों में इतना वक्त दे रहे हैं, यह कम है क्या?

🎋तेरह साल बाद 🎋

ट्रान्सफर हो गया है तो मैं क्या करूं? मैं अपने बच्चों के साथ कहीं नही जाने वाली।

🎋चौदह साल बाद 🎋

क्या खाक मजा आया, बच्चे तो बोर हो गये, तुममें स्टेशन ढूंढने की भी तमीज नहीं है, और होटल भी क्या था.., धर्मशाला जैसा।

🎋पन्द्रह साल बाद 🎋

लौट आये ना? पहले ही कोशिश करते तो ट्रान्सफर होता ही नहीं, लेकिन तुममें इतनी स्मार्टनेस कहाँ है?

🎋सोलह साल बाद 🎋

बच्चे बड़े हो गये हैं, उनसे ढंग से बात किया करो, ये मेरा घर है, तुम्हारा दो टके का आफिस नहीं।

🎋सत्रह साल बाद 🎋

बच्चे घूमने चले गये तो कौन-सा पहाड टूट गया, सब जाते हैं। तुम्हारे भरोसे तो केवल सब्जीमंडी देख सकते हैं.., बात करते हो।

🎋अट्ठारह साल बाद 🎋

डाक्टर ने आराम करने को कहा है, पर मेरी जान तो घर का काम करते – करते ही निकल जायेगी।

🎋उन्नीस साल बाद 🎋

हो जाता है इस उम्र में, बिट्टो को समझा दिया है, अब वो देर रात तक बाहर नहीं रहेगी, पर तुम शुरू मत हो जाना।

🎋बीस साल बाद 🎋

मोटर साइकिल चलाएगा तो गिरेगा ही, पहले ही कहा था, कार दिला दो, तब तो बजट का रोना रो रहे थे।

🎋इक्कीस साल बाद 🎋

डायबिटीज हो गयी है तो मै क्या करूं ? जुबान पर तो लगाम है नहीं, तीन-तीन बार मीठा ठूंसते रहते हो, दवा लो ।

🎋बाइस साल बाद 🎋

ये गीता भाभी का इतना ध्यान क्यों रखते हो? इस उम्र में नाक कटवाओगे क्या?

🎋तेईस साल बाद 🎋

अपने भाईयों के साथ बिजनेस नहीं करोगे। बस एक नौकरी तो ठीक से होती नहीं.., बिजनेस करेंगे, वो भी शातिरों के साथ।

🎋चौबीस साल बाद 🎋

हाँ-हाँ, तो अपने बूते पर ही की है, अपनी बिट्टो की शादी, तुम्हारे परिवारवाले तो मेहमान बन कर आये थे, मेरा भाई नहीं आता तो लडकी की डोली तक नहीं उठती।

🎋पच्चीस साल बाद 🎋

रहने दो, काहे की सिल्वर जुबली, मेरा तो जिगर और फिगर दोनो खराब करके रख दिया तुमने। अच्छा मना लो, पर ज्यादा पटर-पटर मत करना और सब से गिफ्ट भी लेना, हमने भी पचासों जगह बांटी है।

🎋छब्बीस साल बाद 🎋

पढी – लिखी बहू है तो अपने ढंग से रहेगी ही, कानपुर वाली तो तुम बाप-बेटे को जमीं नहीं, अब भुगतो।

🎋सत्ताईस साल बाद 🎋

ससुर-नाना हो गये हो, ये फटे पाजामें में हाल में मत आया करो, मुझे शर्म आती है।

🎋अट्ठाईस साल बाद 🎋

तुम्हे जाना है तो जाओ, मै कहीं नहीं जाऊँगी, पोते को कौन सम्भालेगा? बहू में अक्ल है क्या?

🎋उन्तीस साल बाद 🎋

कोई मन्दिर-वन्दिर नहीं, तीस साल हो गये घंटियाँ बजाते, क्या दिया भगवान् ने, तंगी में ही जी रहे हैं न। 

🎋तीस साल बाद 🎋

देख लो, बीमारी में मैं ही काम आ रही है, बडा दम भरते थे भाई-भाभी का, कोई झांकने तक नहीं आया, चिल्लाओ मत, अभी खांसी शुरू हो जायेगी।

🎋इकत्तीस साल बाद 🎋

आपरेशन से पहले वी.आर एस ले लो, क्या पता बाद में नौकरी करने लायक रहो ना रहो?

🎋बत्तीस साल बाद 🎋

सुबह से हल्ला मत मचाया करो, पचास काम होते हैं घर में, मै तुम्हारी तरह रिटायर नहीं हूं, सुबह से शाम तक सबके लिये खटती हूँ।

🎋तैंतीस साल बाद 🎋

भैया आप तो इन्हें ले जाओ, सुबह से शाम तक सबका जीना हराम कर रखा है, परेशान हो गये हैं, क्या मुसीबत है?

🎋चौंतीस साल बाद 🎋

पप्पू, सारे पेपर अपने नाम करवाले बेटा, अब तेरे पापा का कोई भरोसा नहीं, तबीयत सम्भल भी गयी तो दिमाग की क्या गारंटी है?

🎋पैंतीस साल बाद 🎋

क्या कर रहे हो? कोई आ जाएगा। थोडी शर्म-वर्म है कि नहीं?

———————————–
अंत में..  पतियों के लिए..
———————————–
🌼जिस किसी भी पडाव में है, भुगतते रहे, कुढते रहे।
नमस्कार..! ;)😝😂

जीवन की प्रार्थमिकता

किसी जंगल मे एक गर्भवती हिरणी थी जिसका प्रसव होने को ही था। उसने एक तेज धार वाली नदी के किनारे घनी झाड़ियों और घास के पास एक जगह देखी जो उसे प्रसव हेतु सुरक्षित स्थान लगा। अचानक उसे प्रसव पीड़ा शुरू होने लगी, लगभग उसी समय आसमान मे काले-काले बादल छा गए और घनघोर बिजली कड़कने लगी जिससे जंगल मे आग भड़क उठी। वो घबरा गयी उसने अपनी दायीं ओर देखा, लेकिन ये क्या?
वहां एक बहेलिया उसकी ओर तीर का निशाना लगाये हुए था, उसकी बाईं ओर भी एक शेर उस पर घात लगाये हुए उसकी ओर बढ़ रहा था अब वो हिरणी क्या करे?
वो तो प्रसव पीड़ा से गुजर रही है, अब क्या होगा? क्या वो सुरक्षित रह सकेगी? क्या वो अपने बच्चे को जन्म दे सकेगी? क्या वो नवजात सुरक्षित रहेगा? या सब कुछ जंगल की आग मे जल जायेगा? अगर इनसे बच भी गयी तो क्या वो बहेलिये के तीर से बच पायेगी? या क्या वो उस खूंखार शेर के पंजों की मार से दर्दनाक मौत मारी जाएगी – जो उसकी ओर बढ़ रहा है? उसके एक ओर जंगल की आग, दूसरी ओर तेज धार वाली बहती नदी, और सामने उत्पन्न सभी संकट.., अब वो क्या करे?
लेकिन फिर उसने अपना ध्यान अपने नवआगंतुक को जन्म देने की ओर केन्द्रित कर दिया। फिर जो हुआ वो आश्चर्यजनक था।
कड़कड़ाती बिजली की चमक से शिकारी की आँखों के सामने अँधेरा छा गया, और उसके हाथों से तीर चल गया और सीधे भूखे शेर को जा लगा। बादलों से तेज वर्षा होने लगी और जंगल की आग धीरे धीरे बुझ गयी। इसी बीच हिरणी ने एक स्वस्थ शावक को जन्म दिया।
ऐसा हमारी जिन्दगी में भी होता है, जब हम चारो ओर से समस्याओं से घिर जाते हैं, नकारात्मक विचार हमारे दिमाग को जकड़ लेते हैं, कोई संभावना दिखाई नहीं देती, हमें कोई एक उपाय करना होता है, उस समय कुछ विचार बहुत ही नकारात्मक होते है, जो हमें चिंता ग्रस्त कर कुछ सोचने समझने लायक नहीं छोड़ते। ऐसे मे हमें उस हिरणी से ये शिक्षा मिलती है की हमें अपनी प्राथमिकता की ओर देखना चाहिए, जिस प्रकार हिरणी ने सभी नकारात्मक परिस्तिथियाँ उत्पन्न होने पर भी अपनी प्राथमिकता “प्रसव”पर ध्यान केन्द्रित किया, जो उसकी पहली प्राथमिकता थी, बाकी तो मौत या जिन्दगी कुछ भी उसके हाथ में था ही नहीं, और उसकी कोई भी क्रिया या प्रतिक्रिया उसकी और गर्भस्थ शिशु की जान ले सकती थी! उसी प्रकार हमें भी अपनी प्राथमिकता की ओर ही ध्यान देना चाहिए। हम अपने आप से सवाल करें, हमारा उद्देश्य क्या है, हमारा फोकस अर्थात केंद्रबिन्दु क्या है? हमारा विश्वास, हमारी आशा कहाँ है, ऐसे ही मझधार मे फंसने पर हमें अपने इश्वर को याद करना चाहिए, उस पर विश्वास करना चाहिए जो की हमारे ह्रदय में ही बसा हुआ है.., जो हमारा सच्चा रखवाला, हितैषी और साथी है।

Awestruck & Lusting For You .. (Two Poems)

Awe struck

Awe struck,
I was left.
Shut ..,
smut ..,
scuttlebutt ..,
hard luck,
dead duck .. !

Lusting For You ..

Your chin,
like an apple ..
waiting for the first bite .. !

Wet lips fluttering ..
but do not speak with words,
Index finger to it, shhhhhhh .. !

Tongues thrusting
probing inside ..,
tasting the passion .. !

A sumptuous dessert,
Can’t wait for another bite just,
lusting for you .. !

The Unconditional Love … !

I read this story somewhere, I don’t know … just posting it here … for it touches the heart so easily!

Once upon a time, a man punished his five-year-old daughter for using up the families only roll of expensive gold wrapping paper before Christmas.

Money was tight, so he became even more upset when on Christmas eve, he saw that the child had used the expensive gold paper to decorate a large shoe-box she had put under the Christmas tree.

nevertheless, the next morning the little girl, filled with excitement, brought the gift box to her father and said, ” This is for you, Daddy!”

As he opened the box, the father was embarrassed by his earlier over-reaction, now regretting how he had punished her.

But when he opened the shoe-box, he found it was empty and again his anger flared up. “Don’t you know young lady …,” He said harshly, “when you give someone a present there is supposed to be something inside the package!”

The little girl looked up at him with sad tears rolling down the cheeks and whispered with emotionally choked voice, “Daddy, it is not empty … I blew kisses into it until it was all full.”

The father was crushed. He fell on his knees and put his arms around his precious little one. he begged her to forgive him for his unnecessary anger.

It is said, an accident took away the life of the child only a short time later. The father kept this little gold box by his bed for all the years of his life. Whenever he was discouraged or faced difficult problems, he would open the box take out an imaginary kiss and remember the love of this beautiful child who had put it there.

In a very real sense, each of us human beings have been given this invisible golden box filled with unconditional love, affection and kisses from our children, families, friends and God.

So, you too just open your golden box and feel the love … because, there is no more precious possession anyone could hold!

When money talks … !

A crusty old man walks into a bank & says to clerk, “I wanna open a f**king savings account.”

The astonished woman replies, “I beg your pardon sir, but that kind of language is not tolerated here.”
She goes to the bank manager to complain.
Manager agrees such foul language can’t be accepted.
They both return to the window & ask the old geezer, “Sir, what seems to be the problem here?”
Old man: “There is no f**king problem, I just won $200 million bucks in the f**king lottery & I want to put my f**king money in this f**king bank of yours.”
Manager: “I see, And is this bitch giving u a f**king hard time sir?
Moral of the story:When money talks, nobody checks the Language or Grammar…!
How amazing is this word “F**K” … it has even replaced the word “GOD” as the most used from the day-to-day vocabulary.
Let us see Osho the great trying to unravel some of its mysteries…!