इक और कहानी

वकील – माई लार्ड, कानून की किताब के पेज नंबर पंद्रह के मुताबिक मेरे मुवक्किल को बा-इज्जत बरी किया जाए।
:
जज – किताब पेश की जाए।
:
किताब पेश की गई, जज ने पेज नंबर पंद्रह खोला तो उसमें हजार-हजार के पांच नोट थें।
:
जज मुस्कुराते हुए – बहुत खूब ..,  ऐसे दो सबूत और पेश करें..!
😉😜😆

~ by Dr. Sanjeev Kumar on January 8, 2016.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: